APC Bible College

All timings are in Indian Standard Time (IST) (GMT +5:30)

2024 APC Annual Church Calendar (Click here to download the PDF version)

Christian Leaders Conference 2025

Title: Christian Leaders Conference 2025
मूल शीर्षक: क्रिश्चियन लीडर्स सम्मेलन २०२५

Theme: Interpreting Scripture
मूल विषय: वचन का व्याख्या

How to study, interpret and communicate Scripture
पवित्रशास्त्र का अध्ययन, व्याख्या और संचार कैसे करें

As ministers of God we are instructed to "be diligent to present yourself approved to God, a worker who does not need to be ashamed, rightly dividing the word of truth" (2 Timothy 2:15). How do we study, interpret and communicate Scripture so that we are "rightly dividing the word of truth"? What is the difference between allegory, illustration and type? Is it right to allegorize Scripture texts introducing meaning not intended by the Holy Spirit? How do we respond to apparent discrepancies in historical information or Gospel accounts in Scripture? How do we interpret prophetic texts? We will also address several common questions: Are the gifts of the Spirit still for the Church today? Can women teach God's Word and operate in five-fold ministry gifts? Should New Testament believers tithe? and so much more.

परमेश्वर के सेवकों के रूप में हमे यह निर्देश दिया गया है की “अपने आप को परमेश्‍वर का ग्रहणयोग्य और ऐसा काम करनेवाला ठहराने का प्रयत्न कर, जो लज्जित होने न पाए, और जो सत्य के वचन को ठीक रीति से काम में लाता हो” (२ तिमुथियुस २:१५)। हम पवित्रशास्त्र का अध्ययन, व्याख्या और संचार कैसे करें ताकि हम "सत्य के वचन को सही ढंग से विभाजित कर सकें"? रुपक, दृष्टांत, और प्रकार के अर्थ में क्या अंतर होता है? क्या ये सही होगा पवित्रशास्त्र के वचनों को रुपक बनाके ऐसा अर्थ निकालना जो पवित्र आत्मा के द्वारा अभिप्राय नहीं किया गया हो? हम पवित्रशास्त्र में ऐतिहासिक जानकारी या सुसमाचार वृत्तांतों में स्पष्ट विसंगतियों पर कैसे प्रतिक्रिया करते हैं? भविष्यवाणियों का हम कैसे व्याख्या करते हैं? हम कई सामान्य प्रश्नों पर भी चर्चा करेंगे : क्या आत्मा के वरदान आज भी कलिसिया के लिए उपलब्ध है? क्या महिलाएं परमेश्वर के वचन का प्रचार कर सकती हैं और पाँच प्रकार की सेवकाई के वरदानों में कार्य कर सकती है? क्या नए नियम के विश्वासियों को दशमांस देना चाहिए? और बहुत कुछ।

Date: January 15-17, 2025 (Wed-Thu)
दिनांक: जनवरी १५-१७, २०२५ (बुधवार – शुक्रवार)
दिन: बुधवार से शुक्रवार

Sessions: 9:30am-5:30pm daily
सत्र: ९:३० – ५:३० प्रतिदिन

Speakers: Ashish Raichur
प्रवक्ता: आशीष रायचूर

Participants are invited to help towards the expenses of this conference by making a donation (contribution).
सभी अधिवेशन अंग्रेजी में होंगे और उनका हिंदी में अनुवाद किया जाएगा।

The donation (contribution) can be made at the conference venue upon arrival.
प्रतिभागियों को दान (योगदान) देकर इस सम्मेलन के खर्चों में मदद करने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

All sessions will be in English and translated to Hindi.
सम्मेलन स्थल पर पहुँचने पर दान (योगदान) किया जा सकता है।

Outstation participants are requested to make their own travel and accommodation arrangements.
बाहर से आने वाले प्रतिभागियों से अनुरोध है कि वे अपनी यात्रा और आवास की व्यवस्था स्वयं करें।


All Peoples Church in Bangalore is a Spirit-filled, Word-based, Bible-believing Christian fellowship of believers in Jesus Christ desiring more of His presence and supernatural power bringing transformation, healing, miracles, and deliverance. We preach the full Gospel, equip believers to live out our new life in Christ, welcome the Charismatic and Pentecostal expressions in the assembly of God and serve in strengthening unity across all Christian churches. All free resources, sermons, daily devotionals, and free Christian books are provided for the strengthening of all believers in the Body of Christ. For further equipping, please visit APC Bible College.

Subscribe

Subscribe to weekly sermon email from All Peoples Church,
announcements on free books being released and APC-Bible College updates.

 

You can unsubscribe any time.