ईश्वरीय कृपा

परमेश्वर हर एक व्यक्ति से समान रूप में प्रेम करता है और वह लोगों का पक्षपात नहीं करता । उसके उसके मनुष्य जाती के साथ व्यवहार में हम पाते हैं कि परमेश्वर कुछ व्यक्तियों या लोगों के समूह पर उनके जीवनों के किसी निश्चित समय में ॠतुओं या क्षणों में अपनी कृपा प्रगट करता है। ईश्वरीय कृपा परमेश्वर का दान है। जो व्यक्ति के जीवन में प्रगट होती है। इसी बात की प्रति में हमें जागृत करना चाहता हूँ, ताकि हम परमेश्वर की और से ईशवरीय कृपा प्राप्त करने की अपेक्ष कर सकें