प्रत्येक काम का एक समय

क्या अपने कभी रुक कर सोचा है कि परमेश्वार के पास भी एक घड़ी है संसार के आरम्भ से बल्कि भुताकाल के अनंत से-अज्ञात समय से वर्त्तमान तक चल रही है? क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर के पास हम सब के जीवनों के लिए एक घड़ी है? क्या आपने कभी प्रयास किया है अथावा चाहा है की आप अपने जीवन घड़ी के अनुसार ही नहीं परन्तु परमेश्वर घड़ी के अनुसार ढालें? आपके लिए यह कितना महत्वपूर्ण है कि आप परमेश्वर के समय के अनुसार काम करें और किसी विशेष समय हें वह कर रहे हैं जो वह चाहता है कि आप किसी विशेष समय में वह कर रहे हैं जो वह चाहता है कि आप करें अथवा आपके लिए यह कितना महत्वपूर्ण है कि आप परमेश्वर के द्वार नियुक्त समय पर वह बनें जो वह चाहता है कि आप बनें? ये चुनौतीपूर्ण प्रश्न हैं और यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि हम अपने जीवन को परमेश्वर की घड़ी के द्वारा ढालें| यह पुस्तक व्यक्तिगत रुप से परमेश्वर के समय को हमें पहचानने और समझाने में सहायक होगी|